1

वार्षिक पौधा चौलाई

वार्षिक पौधा चौलाई (एमरैन्थस spp.) सूडोसिरल्स नामक कृत्रिम अन्न से संबंधित है। उसके उच्च-पौष्टिकता गुणों के कारण एज़टैक्स, मेयस और इंकास द्वारा इस्तेमाल किया जाता था। इस समय हम इसकी तीसरी सहस्राब्दी के मोटे अनाज के बारे बात कर रहे हैं।

चौलाई के अन्न में आवश्यक अमीनो-एसिड्स, खनिज, विटामिन्स, तेल और रेशे भरपूर मात्रा में होते हैं। इन्हीं गुणों के कारण इसे एथलीट इस्तेमाल करते हैं। इसका मुख्य लाभ में यह है कि यह प्राकृतिक तौर पर लासा-मुक्त कच्ची सामग्री है और इसलिए यह भोजन से होने वाली एलर्जियों और पेट संबंधी बीमारी से पीड़ित लोगों में लोकप्रिय है।

हम प्रमाणित जैविक कृषि द्वारा उगाए गए जैविक गुणवत्ता वाले उत्पादों की पेशकश करते हैं। यह उत्पादन
EN-BIO-003 (CZ-BIO-003) प्रमाणीकरण द्वारा संचालित है। इस पौधे की सामग्री जैविक है और यह GMO मूल की नहीं है।

2

और अधिक

मानवीय शरीर के लिए अपेक्षित अनिवार्य अमीनो एसिड्स संबंधी प्रोटीन की उच्चतम-गुणवत्ता वाले पौधे के स्रोत में से एक है,  विशेष तौर पर लाइसिन और ट्रिप्टोफैन, जो अन्य फसलों में नहीं पाए जाते। 

चौलाई के प्रोटीन के संघटक को जानवर के प्रोटीन की गुणवत्ता के अनुरूप माना जाता है और इसका जैविक गुण गाय के दूध या सोया प्रोटीन से कहीं अधिक होता है। 

प्रोटीन प्राकृतिक तौर पर लासा-मुक्त है – जो लासा-मुक्त आहार या दूध पीने वाले बच्चों के लिए वैकल्पिक तौर पर उपयुक्त है।

अन्य पौधों के प्रोटीन के मुकाबले इस प्रोटीन का पौष्टिकता गुण कहीं अधिक है और थर्मल प्रोसैसिंग के बाद चौलाई के प्रोटीन के अमीनो एसिड्स की जैव उपलब्धता 95% तक पहुंच जाती है। 

3

चौलाई का आटा

जैविक चौलाई का आटा, मुख्य कच्ची सामग्री के तौर पर या मुख्य कच्ची सामग्री के अलावा तैयार किए जाने वाले भोजन और व्यावहारिक भोजन तैयार करने के लिए उपयुक्त है।

इसमें बहु-असंतृप्त चिकनाईदार एसिड्स, विशेष तौर पर ओमेगा-6 समूह स्कवैलिन (7% तक) और लैसीथिन (4%) के उच्च अनुपात (न्यूनतम 80%) के साथ चिकनाईदार तेल होते हैं। रेशे का बहुमूल्य स्रोत है। विटामिन B1, B2, B3, B6 और E का महत्वपूर्ण स्रोत। आम चीनी की न्यूनतम मात्रा (5% तक) है। पोलीसैक्राइड्स अंश के विलक्षण संघटक में मुख्य तौर पर स्टार्च होता है। पौधे की सामग्री में कोई GMO मूल नहीं है। 

4

चौलाई जैविक तेल

चौलाई के बीज की कोल्ड प्रोसैसिंग से जैविक चौलाई का उच्च-मानक तेल तैयार होता है, जो अपने उच्च-तत्व के कारण लोकप्रिय है: 

  •  चौलाई में असंतृप्त चिकनाईदार एसिड्स का उच्च प्रतिशत (न्यूनतम 80%) होता है।  
  •  ओमेगा-6 समूह के बहु-असंतृप्त चिकनाईदार लिनोलीक एसिड्स न्यूनतम 55% चिकनाईदार एसिड्स दर्शाते हैं।
  • 5-7% स्कवैलिन संघटक की मौजूदगी चौलाई के तेल के इस सत्व का अत्याधिक महत्वपूर्ण स्रोत है। 
  • चौलाई के तेल में ज़ोरदार एंटीऑक्सीडैंट प्रभाव वाली 400 मिग्रा. किलोग्राम-1 के गाढ़ेपन में विटामिन E (अल्फ़ा-टोकोफैरोल) होता है। 
  • तेल में कुदरती फोस्फोलिपिड्स, विशेष तौर पर लैसीथिन की भी महत्वपूर्ण मात्रा होती है 
  • महत्वपूर्ण एंटीऑक्सीडैंट
5

कैप्सूलों में चौलाई का जैविक तेल

मुख्य सक्रिय सत्वों की मानकीकृत और गारंटीशुदा मात्रा:

  • स्कवैलिन 5 % (अन्य चिकनाईदार तेलों की तुलना में उच्च गाढ़ापन)
  • लिनोलीक एसिड (ओमेगा-6) न्यूनतम. 55%
6

बुनियादी पौष्टिकता संबंधी विशेषताएं

  • बहु-असंतृप्त चिकनाई की कुदरती तौर पर उच्च-मात्रा
  •  विटामिन E की उच्च-मात्रा
  • ओमेगा-6 चिकनाईदार एसिड्स का स्रोत
  • कोई चीनी, सोडियम और नमक नहीं
  • लिनोलीक एसिड की उच्च-मात्रा ख़ून में कोलैस्ट्रॉल घटाती है और बच्चों के सामान्य वृद्धि और विकास के लिए ज़रूरी है।  
  • स्कवैलिन का कुदरती स्रोत

Budova Irel

उत्पाद संयत्र IREL

Miroslavske Kninice 63
671 72 Miroslavske Kninice
चेक गणराज्य

GPS: 48°58'44.40"N,16°19'05.31"E